तीखी कलम से

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
जी हाँ मैं आयुध निर्माणी कानपुर रक्षा मंत्रालय में तकनीकी सेवार्थ कार्यरत हूँ| मूल रूप से मैं ग्राम पैकोलिया थाना, जनपद बस्ती उत्तर प्रदेश का निवासी हूँ| मेरी पूजनीया माता जी श्रीमती शारदा त्रिपाठी और पूजनीय पिता जी श्री वेद मणि त्रिपाठी सरकारी प्रतिष्ठान में कार्यरत हैं| उनका पूर्ण स्नेह व आशीर्वाद मुझे प्राप्त है|मेरे परिवार में साहित्य सृजन का कार्य पीढ़ियों से होता आ रहा है| बाबा जी स्वर्गीय श्री रामदास त्रिपाठी छंद, दोहा, कवित्त के श्रेष्ठ रचनाकार रहे हैं| ९० वर्ष की अवस्था में भी उन्होंने कई परिष्कृत रचनाएँ समाज को प्रदान की हैं| चाचा जी श्री योगेन्द्र मणि त्रिपाठी एक ख्यातिप्राप्त रचनाकार हैं| उनके छंद गीत मुक्तक व लेख में भावनाओं की अद्भुद अंतरंगता का बोध होता है| पिता जी भी एक शिक्षक होने के साथ साथ चर्चित रचनाकार हैं| माता जी को भी एक कवित्री के रूप में देखता आ रहा हूँ| पूरा परिवार हिन्दी साहित्य से जुड़ा हुआ है|इसी परिवार का एक छोटा सा पौधा हूँ| व्यंग, मुक्तक, छंद, गीत-ग़ज़ल व कहानियां लिखता हूँ| कुछ पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होता रहता हूँ| कवि सम्मेलन के अतिरिक्त काव्य व सहित्यिक मंचों पर अपने जीवन के खट्टे-मीठे अनुभवों को आप तक पहँचाने का प्रयास करता रहा हूँ| आपके स्नेह, प्यार का प्रबल आकांक्षी हूँ| विश्वास है आपका प्यार मुझे अवश्य मिलेगा| -नवीन

गुरुवार, 1 फ़रवरी 2018

दिल में कोई लहर उठी सी है

2122 1212 22 
दिल में कोई  लहर  उठी  सी है ।
आंख उनकी झुकी झुकी सी है ।।

देखता  जा  रहा  हूँ  मुद्दत   से ।
सुर्ख  होठों पे  तिश्नगी  सी  है ।।

कब निभाता है वो  कोई  वादा ।
बात उसकी तो दिल्लगी सी है ।।

दूरियां   इस  कदर  बढ़ी  उनसे ।
वस्ल  की  रात  मातमी  सी  है ।।

अब जरूरत है आपकी मुझको ।
देखिये  आपकी  कमी  सी   है ।।

मैंने  देखा  नहीं  सुना  है  बस ।
लोग  कहते  उसे  परी  सी  है ।।

उसको छूना जरा सँभल के अभी ।
वो  गुलाबों   की  पंखुड़ी  से  है ।।

वक्त के  साथ  कब  चला  है  वो ।
अक्ल  से उसकी  दुश्मनी  सी है ।।

कौन कहता  है  बुझ  गयी  होगी ।
आग  दिल  में  अभी  दबी सी है ।।

             -- नवीन मणि त्रिपाठी 
             मौलिक अप्रकाशित।

झूठी कसम तो आपकी खाई न जाएगी ।

221 2121 1221 212

जो  बात  है सही  वो  छुपाई  न  जाएगी ।
झूठी कसम तो आप की खाई न जाएगी ।।

बस   हादसे  ही  हादसे  मिलते  रहे  मुझे ।
लिक्खी खुदा की बात  मिटाई न जाएगी ।।

चेहरे  हैं बेनकाब  यहाँ  कातिलों  के  अब।
लेकिन   सजाये  मौत  सुनाई  न  जाएगी ।।

ज़ाहिद खुदा की ओर मुखातिब न कर मुझे ।
काफ़िर  हूँ   मैं  नमाज़  पढ़ाई  न  जाएगी ।।

कितने    थे   बेकरार    तेरे    इंतजार    में ।
बरसात  की  वो  रात  भुलाई  न   जाएगी ।।

देखा जो उसने आपको जबसे निगाह भर ।
ऐसी  लगी  है  आग   बुझाई   न   जाएगी ।।

यूँ   मैकदा  से  हो  के  हैं  लौटे तमाम रिन्द ।
शायद   अभी   शराब   पिलाई  न  जयेगी ।।

गुजरेगी  उम्र  आपकी बस तिश्नगी के साथ ।
चिलमन  तो  अपने  आप हटाई न जाएगी ।।

             --नवीन मणि त्रिपाठी 
             मौलिक अप्रकाशित

ग़ज़ल -आज फिर वो मुझे याद आने लगे

212 212 212 212

आज  फिर  वो   मुझे  याद  आने  लगे ।
भूलने   में    जिसे   थे   ज़माने    लगे ।।

कर गई है असर  वो मिरे   जख़्म  तक ।
इस  तरह  क्यूँ  ग़ज़ल  गुनगुनाने  लगे ।।

दिल जलाने की साज़िश बयां हो गयी ।
बेसबब  आप   जब   मुस्कुराने   लगे ।।

अब  बता दीजिये क्या ख़ता  हो  गयी ।
ख़ाब  में इस  तरह  क्यों  सताने  लगे ।।

जिनको चलना सिखाया था मैंने कभी ।
राह  मुझको  वही  अब   बताने   लगे ।।

तेरे आने की उनको खबर क्या  मिली ।
असमा    लोग   सर  पे  उठाने   लगे ।।

वो   निभाएंगे  कैसे   मिरे   इश्क़  को ।
कुछ   ख़यालात   उनके  पुराने   लगे।।

इक  मुलाकत भी  थी  जरूरी  सनम ।
मानता   आपके    सौ   बहाने   लगे ।।

मैकदा  जाइये   मैकदा    खुल   गया ।
देखिये   होश   में  आप   आने  लगे ।।

जब भी  देखा मैं दायां तो बायां  दिखा।
आईने  सच  भला  कब  दिखाने लगे ।।

रुख  से  पर्दा   हटा  तो  कयामत  हुई ।
जुल्म फिर आशिकों पे  वो  ढाने  लगे ।।

              --नवीन मणि त्रिपाठी
              मौलिक अप्रकाशित

ग़ज़ल - तेरे ज़हान से क्यूँ सिसकियाँ नहीं जातीं

1212 1122 1212 22

गरीब    खाने   तलक   रोटियां    नहीं   जातीं ।
तेरे  जहान  से  क्यूँ   सिसकियाँ  नहीं  जातीं ।।

कतर रहे हैं वो पर ख्वाहिशों के  अब  भी बहुत।
नए    गगन   में   अभी , बेटियां  नहीं   जातीं ।।

वो तारे  तोड़ तो सकता है  आसमाँ  से  मग़र ।
मुसीबतो  की   ये   परछाइयां   नहीं   जातीं ।।

यकीं  करूँ मैं  कहाँ तक  जुबान  पर साहब ।
लहू  से   आपके   खुद्दारियाँ    नहीं   जातीं ।।

तमाम  दे  के   रियायत  हुजूर  देख   लिया ।
खराब   कौम   से   गद्दारियाँ   नहीं   जातीं ।।

सियासतों  का  ये  मंजर  न पूछ अब हमसे ।
सियासतों  से  यहाँ  खामियाँ  नहीं   जातीं ।।

नए  निज़ाम   से  उम्मीद  और  क्या  करना ।
चमन से  आज  भी  दुश्वारियां  नहीं  जातीं ।।

नज़र  का फेर  था या फिर  था हादसा कोई ।
दिलो   दिमाग  से   रानाइयाँ   नहीं   जातीं ।।

न जाने  क्या  हुआ  है आपकी  निगाहों को ।
मेरे   वजूद    से    रुस्वाइयाँ    नहीं   जातीं ।।

जरा  सँभल  के  रहो  दुश्मनों की फितरत से ।
मिले   तो   हाथ  मगर  खाइयां  नहीं  जातीं ।।

मैं भूल  जाऊं  सभी  जख़्म कोशिशें  हैं मेरी ।
मगर ज़िगर की  ये  मजबूरियां  नहीं  जातीं ।।

चले  गए  हैं मेरी  जिंदगी   से  जब  से  वो ।
मेरे  दयार   से    खामोशियाँ   नहीं  जातीं ।।

           -- नवीन मणि त्रिपाठी 
           मौलिक अप्रकाशित

ग़ज़ल - ऐ चाँद अभी तेरा दीदार जरूरी है

221 1222 221 1222

इक  बार  तेरे  दिल  का  इकरार  जरूरी है ।
ऐ   चाँद  अभी   तेरा   दीदार   जरूरी   है ।।

माना  कि  मुहब्बत  में  हैं   ज़ख्म  बहुत  मिलते ।
कुछ सिलसिलों की खातिर कुछ ख्वार जरूरी है।।

फैशन के  जमाने  मे बदला है चलन  ऐसा ।
उनको  तो  गुलाबों  सा रुखसार जरूरी है ।।

खामोश  निगाहों  से  देखा  न करो उसको ।
दिलवर पे असर खातिर इज़हार जरूरी है ।।

महबूब की जुल्फों पर लगती है नजर उनकी ।
अब  घर  के  दरीचों  पर  दीवार  जरूरी  है ।।

आहट से मिरे  दिल मे आये सुकूं का मौसम ।
पायल में खनकती  सी झनकार  जरूरी  है ।।

हर बात में हाँ करना मतलब की है निशानी ।
सच्ची  है मुहब्बत तो  इनकार   जरूरी  है ।।

ईमान बहुत सस्ते  में बिक  गया  है  उसका ।
कीमत के  लिए  अब  तो बाज़ार ज़रूरी है ।।

       
        --नवीन मणि त्रिपाठी 
        मौलिक अप्रकाशित

ग़ज़ल - दिल हमारा मांगती है आजकल

2122 2122 212

बेखुदी   की   जिंदगी  है   आजकल ।
खूब  सस्ता   आदमी   है  आजकल ।।

जी   रहे   मजबूरियों   में  लोग  सब।
महफिलों  में  ख़ामुशी है  आजकल ।।

लग  रही  दूकान  अब   इंसाफ  की ।
हर तरफ़ कुछ ज़्यादती है आजकल।।

छोड़  कर   तन्हा  मुझे  मत  जाइए ।
कुछ  जरूरत आपकी है आजकल ।।

अब नहीं  मिलता  कोई  मुझसे यहां।
बर्फ  रिश्तों पर जमी  है  आजकल ।।

आपके  हर   कातिलाना   वार   से ।
फैल  जाती  सनसनी  है  आजकल ।।

मैकदे    में   शोर   बरपा   है  बहुत ।
जाम पर  रस्सा  कसी है आजकल।।

रिन्द   खोते   जा  रहे  सारा  अदब ।
जाने  कैसी  तिश्नगी  है आजकल।।

हुस्न  पर  पर्दा   न  इतना  कीजिये ।
हुस्न  की  ही  बन्दगी  है आजकल ।।

क्या  भरोसा  रह  गया  है  यार का ।
वह  निभाता  दुश्मनी  है आजकल ।।

अब  नहीं  जाना  मुझे  उसकी गली ।
वह  कहाँ  पहचानती  है  आजकल।।

इक    हसीना    खेलने   के   वास्ते ।
दिल  हमारा  मांगती  है  आजकल ।।

          ---नवीन मणि त्रिपाठी 
          मौलिक अप्रकाशित

ग़ज़ल --जला गया जो गली से अभी गुज़र के मुझे

1212 1122 1212  22

सिला दिया है मेरे दिल में कुछ उतर के  मुझे ।
जला गया जो गली से अभी  गुजर  के मुझे ।।

صلہ   دیا  ہے میرے دل  میں  کچھ  اتر  کے مجھے ۔
جلا  گیا جو گلی  سے ابھی  گزر  کے مجھے  

किया हवन तो जला हाथ इस कदर अपना ।
मिले  हैं  दर्द  पुराने  सभी  उभर  के  मुझे ।।
کیا ہون  تو  جلا  ہاتھ  اس  قدر  اپنا  ۔
ملے  ہیں  درد  پرانے سبھی  ابھر  کے  مجھے ۔

तमाम  जुल्म   सहे   रोज  आजमाइस   में ।
चुनौतियों से मिली जिंदगी निखर के मुझे ।।
تمام  ظلم  سہے روز  آزماش  میں ۔
چنوتیوں سے ملی ذندگی  نکھر  کے  مجھے  ۔

अजीब दौर है किस किस की आरजू देखूँ ।
बुला रही है क़ज़ा भी यहाँ  सँवर  के मुझे ।।
عجیب دور ہے کس کس  کی   ارذ و دیکھوں
 بلا   رہی  ہے قضا بھیی یہاں  سنور کے  مجھے ۔۔

      
मिटा  रहे  हैं मुहब्बत की  हर निशानी  को।
दिखा रहे थे जो छाले कभी जिगर के मुझे।।
مٹا رہے  ہیں محبّت کی ہر  نشانی کو ۔
دکھا  رہے  تھے  جو چھالے کبھی  جگر  کے مجھے ۔۔

नई  है  बात  नहीं  हादसों  पे  क्या डरना ।
हादसे  खूब  मिले  हैं  ठहर  ठहर के मुझे ।।
نئی ہے بات نہین  ہاد سون سے  کیا  ڈرنا ۔
ہاد سے خوب ملے  ٹھہر ٹھہر  کے  مجھے ۔۔ 

बड़ा यकीन था जिस पर मुझे भी मुद्दत  तक।
दिखा गया वो शराफत की जद मुकर के मुझे।।
بڑا  یقین تھا  جس  پر مجھے  بھی  مددت  تک ۔
دکھا  گیا  وہ  شرافت کی ذد   مکر  کے مجھے ۔  

करीब  आना  मयस्सर  नही   हुआ  उसको ।
वो  देखता  ही  रहा बस निगाह भर के मुझे ।।

قریب آنا  میسسر نہیں  ہوا  اسکو  ۔
وہ  دیکھتا  ہی  رہا بس  نگاہ بھر  کے  مجھے ۔۔

जला  रहे  थे  मेरे  घर  को जो  हवा देकर ।
वो दे रहे  हैं   सफाई  गुनाह  कर के मुझे ।।
جلا  رہے  تھے  میرے  گھر  کو  جو ہوا  دیکر ۔
وہ  دے  رہے  ہیں صفای گناہ کر  کے  مجھے ۔

सुना है हिज्र की तारीख़ आ  रही है अब  ।
खबर बता के गया है कोई सिहर के मुझे ।।
سنا  ہے ہجر کی تاریخ  آ  رہی  ہے  اب ۔
خبر  بتا  کے  گیا  ہے کوئی  سہر  کے  مجھے ۔۔ 
          -- नवीन मणि त्रिपाठी 
            मौलिक अप्रकाशि
نوین مڈی ترپاتھی